Home Universities नई शिक्षा नीति 2020: कला और मानविकी की पढ़ाई अब तकनीकी शिक्षण संस्थानों में होगी

नई शिक्षा नीति 2020: कला और मानविकी की पढ़ाई अब तकनीकी शिक्षण संस्थानों में होगी

EduBeats

नई शिक्षा नीति के तहत तकनीकी संस्थानों में भी कला और मानविकी के विषयों की पढ़ाई हो सकेगी। इसके साथ ही देश के सभी कॉलेजों में संगीत, थिएटर जैसे कला के विषयों के लिए अलग विभाग स्थापित किए जाएंगे। नई नीति के तहत आईआईटी समेत देश के सभी तकनीकी संस्थान होलिस्टिक अप्रोच (समग्र दृष्टिकोण) अपनाएंगे। इसके तहत इंजीनियरिंग के साथ-साथ तकनीकी संस्थानों में कला और मानविकी के विषयों पर जोर दिया जाएगा।

 

कौशल आधारित विषयों को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा। विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों का काम अकादमिक और रिसर्च पर फोकस रहेगा। परीक्षा से लेकर दाखिले तक का काम नेशनल टेस्टिंग एजेंसी करेगी। जिन कोर्स में छात्रों की संख्या कम है या पुराने हो चुके हैं, उनकी जगह पर नए कोर्स शुरू होंगे।

 

सिर्फ ज्ञान नहीं कौशल और रोजगार भी
लिबरल एजुकेशन में देश की 64 कलाओं को बढ़ावा मिलेगा। विभिन्न विषयों में दक्षता और क्षमता के आधार पर डिग्री की पढ़ाई होगी। इसका मतलब ज्ञान के साथ कौशल विकसित करना है, जिससे रोजगार के मौके मिलें। स्नातक तक कोर्स 3-4 वर्ष का होगा और कभी भी प्रवेश और पढ़ाई छोड़ने का विकल्प सर्टिफिकेट के साथ मिलेगा।

 

धार्मिक-सामाजिक संस्थानों को भी जोड़ेंगे
शिक्षा सुधार योजनाओं में हिंदू मठ, आश्रम, गुरुद्वारा, ईसाई मिशनरी संस्थान, इस्लामिक ट्रस्ट, बौद्ध और जैन समुदाय को शामिल करने का प्रस्ताव है। इसका मकसद विभिन्न वर्गों को जोड़ना और वैचारिक मतभेद दूर करना है। स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्त्रस्म में बिजनेस व इंडस्ट्री के सुझाव पर बदलाव होगा, ताकि रोजगार पर फोकस किया जा सके। इसके अलावा पूर्व छात्र और स्थानीय समुदाय से सुरक्षा, सफाई पर मदद ली जाएगी।

अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक