Home Universities लविवि कुलपति एसपी सिंह के खिलाफ शिक्षक लामबंद, लूटा ने की तत्काल बर्खास्तगी की मांग

लविवि कुलपति एसपी सिंह के खिलाफ शिक्षक लामबंद, लूटा ने की तत्काल बर्खास्तगी की मांग

EduBeats

लखनऊ
लखनऊ विश्वविद्यालय के टीचर्स स्टाफ क्लब में शुक्रवार को लखनऊ यूनिवर्सिटी टीचर्स असोसिएशन (लूटा) की बैठक में जमकर हंगामा हुआ। करीब तीन घंटे तक चली बैठक में विश्वविद्यालय में व्याप्त वित्तीय एवं शैक्षणिक अनियमितताओं की घोर निंदा की गई। लूटा अध्यक्ष डॉ. नीरज जैन, महामंत्री डॉ. विनीत वर्मा सहित कई शिक्षकों ने वीसी प्रो. एसपी सिंह को तत्काल हटाए जाने की मांग का प्रस्ताव रखा। 

 

सर्वसम्मति से कुलपति को हटाने का प्रस्ताव पास
प्रति कुलपति डॉ राजकुमार सिंह, प्रो सी पी सिंह तथा प्रो बालक दास ने इस प्रस्ताव से असहमति व्यक्त की। प्रोफेसर विनोद सिंह और डीन आर्ट्स प्रोफेसर पी सी मिश्रा के बीच काफी बहस हुई। प्रोफेसर विनोद सिंह, चीफ प्रोवोस्ट संगीता रानी मीटिंग बीच में ही छोड़कर चले गए। हालांकि बाद में शिक्षकों ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया कि लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ सुरेंद्र प्रताप सिंह को तत्काल हटाया जाए। शिक्षकों ने मांग की, कि कुलाधिपति लखनऊ विश्वविद्यालय कुलपति को तुरंत बर्खास्त करें। लूटा ने कहा कि 100 साल पुराने लखनऊ विश्वविद्यालय के लिए एसपी सिंह बिल्कुल ठीक नहीं हैं,  इनके कार्यकाल में लखनऊ विश्वविद्यालय को भारी शैक्षणिक एवं वित्तीय क्षति हुई है। 

 

खुद ठेकेदार, खुद इंजीनियर बने कुलपति: जैन
लूटा अध्यक्ष डॉ नीरज जैन ने कहा कि कुलपति एसपी सिंह ने अपने 3 साल के कार्यकाल में ठेकेदार और इंजीनियर की भूमिका में कार्य किया। सारा धन अनियमित तरीके से निर्माण कार्य में खर्च कर दिया। और सरकार से कहते रहे कि धन की कमी है। सरकार ने विभिन्न शोध पीठों के लिए 11 करोड़ की धनराशि विश्वविद्यालय को दी लेकिन यह सारा धन अन्यत्र खर्च किया गया। 

 

सीबीआई जांच की मांग उठाई
बैठक में शिक्षकों ने कहा कि लविवि में एक करोड़ रुपये से ज्यादा की जालसाजी हुई है, लेकिन किसी की जिम्मेदारी अभी तक नहीं तय की गई। यहां तक कि उन्हें नोटिस भी नहीं दिया गया। शिक्षकों ने मांग उठाई की बैठक में सभी के खातों और वित्तीय अनियमितताओं की सीबीआई जांच हो।

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT