Home News लविवि का दीक्षांत सम्पन्न, कुलाधिपति ने दी दहेज पर 'सर्जिकल स्ट्राइक' की सलाह

लविवि का दीक्षांत सम्पन्न, कुलाधिपति ने दी दहेज पर 'सर्जिकल स्ट्राइक' की सलाह

लखनऊ
लखनऊ विश्वविद्यालय का 62वां दीक्षांत समारोह राज्यपाल आनंदीबेन पटेल की मौजूदगी में मंगलवार को संपन्न हुआ। समारोह में राज्यपाल ने कहा कि बेटियां दहेज देने और बेटे दहेज लेने से इन्कार करें। पटेल ने कहा कि इस विश्वविद्यालय ने कई चमकते सितारे दिए हैं, उन्हीं में नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार और चंद्रयान 2 मिशन की डायरेक्टर रितु करिधाल श्रीवास्तव भी शामिल हैं। उन्होंने कहा शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार है, जिसका इस्तेमाल बदलाव के लिये कर सकते हैं। उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए ये भी कहा कि लक्ष्य बनाना और वहां तक पहुंचना शिक्षा ही सिखाती है और देश में कम ही ऐसे विश्वविद्यालय हैं जिनके 100 साल पूरे हो चुके हैं या होने वाले हैं। एलयू उनमें से एक है। यहां के कई छात्र-छात्राओं से लेकर शिक्षक तक देश में मान बढ़ा रहे हैं।

 

मुख्य अतिथि नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि राज्य सरकार को शिक्षा व्यवस्था पर फोकस करना होगा। इस समय पूरे विश्व की नजर भारत पर है इसलिए हमें भी पूरे विश्व पर अपनी नजर रखनी होगी। आज जनधन, जीएसटी और आयुष्मान जैसी योजनाएं पूरे विश्व में चर्चा का विषय हैं। भारत एक बड़ी अर्थव्यस्था है तो इसमें सभी को मिलकर काम करना होगा। सब लोग जुडेंगे तभी यह देश विकास के पथ पर अग्रसर होगा।

 

 

लविवि को राजीव ने दिया धन्यवाद
अपने संबोधन के दौरान राजीव ने लविवि को धन्यवाद भी दिया। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के उन पर पर कई एहसान हैं और मैं दिल्ली में जब थोड़ा पथभ्रष्ट हुआ तो 1971 में एलयू ने यहां पढ़ने की अनुमति दी थी। इसके बाद यहीं से बीए, एमए और पीएचडी की। आज जो भी सफलता मिली है, उसके पीछे यहीं के शिक्षकों का आशीर्वाद है।' इस मौके पर उन्होंने विश्वविद्यालयों को एक्रीडेशन स्कोर जारी करने के लिए कहा। उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए ये भी कहा कि एलयू को नैक ग्रेड में सुधार करने चाहिए, जिससे स्वायत्तता मिल सके।

 

READ ALSO: लविवि: दीक्षांत से पहले लूटा की बैठक, उठी कुलपति एसपी सिंह के इस्तीफे की मांग

 

विशिष्ट अतिथि के रूप में पहुंची चंद्रयान टू की मिशन डायरेक्टर रितु करिधल ने कहा, परिस्थितियों में भी व्यक्ति अपने कठिन परिश्रम से सफलता को प्राप्त कर सकता है, परिस्थिति कोई भी हो, उसका सामना करना आना जरूरी है। इस दौरान रितु ने अपने जीवन से जुड़े अनुभव भी साझा किए। दीक्षांत समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में उप-मुख्यमंत्री और उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा भी उपस्थित रहे। राज्यपाल और लविवि की कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने समारोह की अध्यक्षता की। लविवि कुलपति प्रो.एसपी सिंह ने सभी को धन्यवाद दिया तथा लविवि की रिपोर्ट पेश की।

 

इन छात्रों पर हुई 'मेडल वर्षा'
14 मेडल- सामिया इकराम
8 मेडल- रिषभ त्रिपाठी, विभांतिका द्विवेदी
7 मेडल- सलिहा खातून
6 मेडल- अपूर्वा सिंह, तंजिला सिद्दीकी
5 मेडल- निमिशा सिंह, शायर्ति प्रकाश
4 मेडल- अर्शिया परवीन, ज्योति वर्मा, मुकेश कुमार, विकास कुमार, श्रेयांस रस्तोगी, श्रुति सक्सेना
3 मेडल- सोनी शुक्ला, स्वप्निल गुप्ता, विवेक कुमार चौधरी, स्वाति सिंह, मोनिका सक्सेना, यशी पांडेय
2 मेडल- वर्तिका शुक्ला, रवि शाक्य, अर्चना चौरसिया, रक्षा सिंह, निवेदिता सिंह, दीपक द्विवेदी, सारादिल, उजाला, पंखुड़ी श्रीवास्तव, बुशरा नूर, मनुज दरबारी
1 मेडल- अभय द्विवेदी, तुशिता सिंह, विकास पांडेय, मानसी जायसवाल, अंशिका मिश्रा, विक्की पांडेय, प्रिया बाजपेयी, मीनाक्षी शर्मा, स्वेच्छा द्विवेदी, श्वेता सिंह, आयुषी श्रीवास्तव, इंशा परवीन, अभिषेक नारायण, मणि शिवा सिंह, स्नेहा वर्मा, ज्योति विश्वकर्मा, सुजानवीर गौतम, लावी शुक्ला, संजय कुमार वर्मा, मृणाल मंजरी, प्रिया टंडन, सूर्जू हितनान, श्रेया गुप्ता, नादिरा खातून, फरहत इकराम, अभिलाषा पांडेय, रिषभ जायसवाल, अंजली ओझा, शिवांगी तिवारी, दिव्या भारती, शुभम दीक्षित, नेहा पांडेय, विशाल गर्ग, खुशबू मिश्रा, संदीप सिंह, प्रत्यूष श्रीवास्तव, सोनिया गुप्ता, जव्वाद हैदर, निपमिका प्रजापति, रवि कुमार, कामिनी सिंह, हर्षिता अवस्थी, पुलकित, महिमा वर्मा, वर्तिका पांडेय, आकृति तिवारी, शाहबाज नसीम अंसारी, कात्यायनी गुप्ता, आरिज हुसैन आब्दी, आस्था ओझा, डॉ. राजेश कुमार पटेल, डॉ. अनुराग कुमार यादव, डॉ. निलय तिवारी, डॉ. दुर्गेश वर्मा, डॉ. सोनल अग्रवाल
चांसलर्स गोल्ड मेडल- दुर्गेश कुमार त्रिपाठी
वाइस चांसलर मेडल फॉर बेस्ट एनसीसी कैडेट- आनंद कुमार यादव
चांसलर्स ब्रोंज मेडल : शांभवी पांडेय, मुस्कान त्रिपाठी, राम सुमेर, श्वेता मौर्या, चारु बाजपेयी, मानसी बाजपेयी, भावना कनौजिया, पलक गुप्ता, शिवाशीष मिश्रा, प्रगति श्रीवास्तव
डॉ. चक्रवर्ती गोल्ड मेडल फॉर सर्विस- विभू बनर्जी  


READ ALSO:दीक्षांत के जश्न के बीच लविवि के छात्रों का गर्वनर को ज्ञापन, प्रशासन पर लगाए गंभीर आरोप

 

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT