Home School उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद् में रिटायर्ड अध्यापकों की नियुक्ति

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद् में रिटायर्ड अध्यापकों की नियुक्ति

EduBeats

लखनऊ 

उत्तर प्रदेश सरकार ने गत वर्ष होने वाली बोर्ड परीक्षाओं में उत्तर पुस्तिका के मूल्यांकन के लिए रिटायर्ड हो चुके अध्यापक और प्रिंसिपल की नियुक्ति का फैसला लिया है ताकि इस वर्ष होने वाली बोर्ड परीक्षाओं में किसी तरह की समस्या न आए। अफसरों का कहना है कि असहाय स्कूल के शिक्षक की मेहनताना वृद्धि न बढ़ने की वजह से शिक्षक अपने काम से दूर भागते हैं और इन्ही कारणों से मूल्यांकन में देरी होती है। अध्यापकों का यह समूह शिक्षकों की आवश्यकता को दूर करने के लिए माध्यमिक शिक्षा बोर्ड में मौजूद रहेगा। 

 

इस वर्ष सरकार ने 10 दिन में मूल्यांकन प्रक्रिया को खत्म करने का इरादा बनाया है। यह प्रक्रिया 17 मार्च से 26 मार्च तक चलेगी ताकि 20 अप्रैल और 25 अप्रैल को परिणाम घोषित कर दिए जाएं।

 

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद् सचिव नीना श्रीवास्तव का कहना है कि इस समूह की निगरानी स्कूल के जिला निरीक्षक के अंतर्गत होगी। इस समूह को  गठित करने का मकसद यह है की बोर्ड और छात्रों को परिणाम में देरी न हो।

 

बोर्ड का कहना है कि हर वर्ष करीब तीन करोड़ कॉपी का मूल्यांकन करना होता है और पिछले तीन वर्षों में मूल्यांकन तिथि को दो बार बदला गया जिसकी वजह से छात्रों के परीक्षा टाइम-टेबल को भी बदलना पड़ता है और इन्ही कारणों से कुछ छात्र परीक्षा का बहिष्कार भी करते हैं। हालाँकि बोर्ड ने परीक्षा की डेट 18 फरवरी दी है जो की 6 मार्च को खत्म होगी।

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT