Home School राजस्थान: प्राइवेट स्कूलों से बोले CM गहलोत- फीस की वजह से न काटें बच्चों का नाम

राजस्थान: प्राइवेट स्कूलों से बोले CM गहलोत- फीस की वजह से न काटें बच्चों का नाम

EduBeats

जयपुर, 

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को निजी विद्यालयों से एक बार फिर कहा कि लॉकडाउन के कारण अगर कोई अभिभावक आर्थिक स्थिति के चलते फीस जमा नहीं करा पाता है तो उनके बच्चों के नाम नहीं काटे जाएं। गहलोत ने आगाह किया यदि कोई स्कूल ऐसा करता है तो राज्य सरकार उसकी मान्यता निरस्त कर सकती है। गहलोत ने शिक्षा विभाग से कहा कि वह इस पर विचार करे कि निजी स्कूल विद्यार्थियों को फीस व अन्य शुल्कों में किस प्रकार राहत दे सकते हैं कि उनका संचालन भी प्रभावित नहीं हो।

 

गहलोत ने मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए स्कूल शिक्षा, उच्च व तकनीकी शिक्षा से जुड़े विषयों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि मानवता के समक्ष यह ऐसा संकट है जिसका हम सभी को मिलकर सामना करना है। ऐसे वक्त में एक-दूसरे का ध्यान रखकर ही हम इस मुश्किल वक्त का मुकाबला कर सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की दसवीं व बारहवीं कक्षाओं की बाकी परीक्षाएं फिलहाल स्थगित रहेंगी। बाद में सीबीएसई द्वारा लिए जाने वाले निर्णय के अनुरूप फैसला किया जाएगा ताकि दोनों बोर्ड की परीक्षाओं में एकरूपता बनी रहे और प्रदेश के विद्यार्थियों का अहित न हो। इसी प्रकार उच्च एवं तकनीकी शिक्षा में भी परीक्षाओं का आयोजन स्थितियां सामान्य होने पर करवाया जा सकेगा।

 

गहलोत ने निर्देश दिए कि शिक्षा विभाग ग्रीष्मावकाश में बच्चों को मिड-डे मील के लिए उचित व्यवस्थाएं सुनिश्चित करे। उन्होंने लिपिक ग्रेड द्वितीय भर्ती परीक्षा-2018 के अभ्यर्थियों को जिले व विभागों का आवंटन पुनः नई प्रक्रिया से करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी विभागों को मेरिट के आधार पर उनकी आवश्यकता के अनुरूप चयनित अभ्यर्थियों की सूची उपलब्ध कराएं। उसके बाद संबंधित विभाग मेरिट एवं काउंसलिंग के आधार पर उन्हें जिला आवंटित करें। उन्होंने मुख्य सचिव को निर्देश दिए कि भविष्य में सभी भर्तियों में प्रथम नियुक्ति सभी विभागों द्वारा मेरिट एवं काउंसलिंग के आधार पर ही दी जाए। शिक्षा का अधिकार अधिनियम आरटीई के तहत अभिभावकों की आय सीमा को एक लाख से बढ़ाकर ढाई लाख रूपए करने के निर्देश भी दिए गए। 
भाषा 

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT