Home News रायबरेली: प्रधानाध्यापक की लापरवाही के चलते बच्चों को नहीं मिल रहा मिड-डे मील, बीएसए ने किया निलंबित

रायबरेली: प्रधानाध्यापक की लापरवाही के चलते बच्चों को नहीं मिल रहा मिड-डे मील, बीएसए ने किया निलंबित

रायबरेली
उत्तर प्रदेश के सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए सरकार अनेंको प्रयत्न कर रही है लेकिन जिम्मेदार लोग उन प्रयत्नों पर मिट्टी डालने से पीछे नहीं हट रहे हैं। एक तरफ सरकार बच्चों को अच्छा मिड-डे मील उपलब्ध कराना चाहती है तो दूसरी तरफ प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक एमडीएम तक बनवाना नहीं चाहते। ऐसा ही मामला सूबे के जिला रायबरेली के प्राथमिक विद्यालय में देखने को मिला। जहां प्रधानाध्यापक और शिक्षिका कई दिनों से बच्चों को पढ़ाने के लिए विद्यालय ही नहीं पहुंच रहे। इतना ही नहीं, स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के लिए मिड-डे मील भी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। जब बीएसए को मामले की जानकारी मिली तो कार्रवाई के तौर पर उन्होंने प्रधानाध्यापक को निलंबित कर दिया। 

 

उत्तर प्रदेश के जिला रायबरेली में महराजगंज तहसील, हरचंदपुर ब्लाक के गंगागंज स्थित प्राथमिक विद्यालय में गांधी जयंती यानी 2 अक्टूबर के बाद से प्रधानाध्यापक उपेंद्र यादव सहित अन्य शिक्षक/शिक्षिकाएं गायब हैं लेकिन इस बात की खबर किसी को नहीं थी। प्रधानाध्यापक उपेंद्र ने चालाकी दिखाते हुए बच्चों की पढ़ाई के लिए स्कूल में तैनात शिक्षामित्र को इसकी जिम्मेदारी दे रखी थी। प्रधानाध्यापक की अनुपस्थिति से स्कूल में कई काम अधूरे रह जाते हैं साथ ही बच्चों की समस्या सुनने वाला कोई नहीं बचता। इससे बच्चों की पढ़ाई भी ठीक से नहीं हो पा रही है और प्रधानाध्यापक की लापरवाही का नतीजा बच्चों को भुगतान पड़ रहा है। आपको बता दें कि प्रधानाध्यापक और सहायक अध्यापकों की इस लापरवाही के चलते बच्चों के लिए स्कूल में 5 अक्टूबर से मिड-डे मील नहीं बन रहा, जिससे बच्चे भी भूखे बैठे पढ़ाई करते रहते हैं। इस बात को लेकर ग्रामीणों में भी प्रधानाध्यापक के प्रति गहरा आक्रोश भरा हुआ है। 

 

जानकारी के अनुसार रायबरेली के बेसिक शिक्षा अधिकारी ने  मामले की सूचना मिलते ही जांच के आदेश दे दिए। जांच में मामला सही पाए जाने के बाद त्वरित कार्रवाई करते हुए प्रधानाध्यापक को निलंबित कर दिया गया। हालांकि इस मामले पर और जानकारी लेने के लिए एजुकेशन बीट्स की रिपोर्टर ने बीएसए रायबरेली से बात करने का बहुत प्रयास किया लेकिन उनका फोन नहीं उठा।

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT