Home School अलीगंज के SVM में भ्रष्टाचार के खुले खेल का खुलासा, कॉशनमनी पर यूं पड़ा डाका

अलीगंज के SVM में भ्रष्टाचार के खुले खेल का खुलासा, कॉशनमनी पर यूं पड़ा डाका

EduBeats

लखनऊ,

विद्यालय यानी शिक्षा का मंदिर और शिक्षा के इस मंदिर को आधुनिकता आधारित संस्कार विहीन किताबी ज्ञान से बचाने का दावा करता है, आरएसएस से जुड़ा विद्या भारती। विद्या भारती देश में हजारों स्कूलों का संचालन करता है। सरस्वती शिशु मंदिर और सरस्वती विद्या मंदिर नाम के स्कूलों की इस चेन पर लोग भरोसा करते हैं। लोगों को लगता है कि इन स्कूलों में उनके बच्चों को पढ़ाई के साथ संस्कार भी मिलेंगे। लेकिन आज एजुकेशन बीट्स विद्या भारती के एक स्कूल में चल रहे भ्रष्टाचार के खुले खेल की पोल खोलने जा रहा है।

 

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के अलीगंज में स्थित सरस्वती विद्या मंदिर को लेकर कुछ छात्रों ने एजुकेशन बीट्स से संपर्क किया। छात्रों का आरोप है कि उनसे एडमिशन के समय एक-एक हजार रुपये कॉशन मनी के तौर पर लिए गए हैं। लेकिन अब स्कूल कॉशन मनी वापस करने से मना कर रहा है। आगे का मामला समझने से पहले जरा ये जान लीजिए कि कॉशनमनी होता क्या है....कुछ स्कूल एडमिशन के समय एडमिशन फीस के साथ एक तय अमाउंट सिक्यॉरिटी के तौर पर लेते हैं। स्कूलों का कहना होता है कि अगर कोई स्टूडेंट विद्यालय के किसी संसाधन को नुकसान पहुंचाएगा तो उसकी भरपाई इस कॉशनमनी से की जाएगी। ये कॉशनमनी पढ़ाई खत्म होने या स्कूल छोड़ने के बाद छात्र को वापस कर दी जाती है।
 

इसी के साथ छात्रों का कहना है कि 2019 में पढ़ाई खत्म होने के बाद भी अब तक उन्हें कॉशनमनी वापस नहीं की गई है। छात्रों का कहना है कि जब वो कॉशनमनी के लिए स्कूल जाते हैं तो कभी कोरोना का बहाना बना दिया जाता है, तो कभी अगले दिन आने की बात कहकर टाल दिया जाता है। परेशान छात्रों ने एजुकेशन बीट्स से इस मामले की शिकायत की। जिसके बाद एजुकेशन बीट्स ने जब स्कूल से उनका पक्ष जानने की कोशिश की तो जवाब ये मिला... कि वो 2016 से कॉशन मनी नहीं ले रहे हैं, और रसीद पर भी कॉशन मनी का कोई जिक्र नहीं है। उनका कहना है कि 2016 से हमारे यहाँ कॉशन मनी का कोई प्रोविजन ही नहीं है। उनका ये भी कहना था कि हो सकता है कि कभी-कभी छात्रों के दिमाग में कॉशन मनी को लेकर भ्रम भी हो जाता है। जबकि पूर्व छात्र मानस मिश्रा के पास 2017-18 की रसीद भी मौजूद है जिसमें रसीद पर साफ-साफ लिखा है कि 2017-18 की एनुअल फीस 3000 रुपये... कॉशन मनी 1000 रुपये... कुल 4000 रुपये। मानस समेत कई छात्रों ने एजुकेशन बीट्स को मैसेज कर अपनी यह समस्या बताते हुए न्याय की गुहार लगाई है।

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

PHOTO GALLERY

सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक