Home School हरदोईः मिशन शिक्षण संवाद की ऑनलाइन आईसीटी वर्कशॉप, 8 दिनों तक शिक्षकों को टेक्नो सेवी बनाने पर जोर

हरदोईः मिशन शिक्षण संवाद की ऑनलाइन आईसीटी वर्कशॉप, 8 दिनों तक शिक्षकों को टेक्नो सेवी बनाने पर जोर

EduBeats

कक्षा कक्ष के साथ-साथ शिक्षकों के अभिलेखीय कार्यों में सहयोग के लिए आईसीटी के बेहतर प्रयोग को सभी शिक्षकों के साथ साझा करने और शिक्षकों को अधिक टेक्नो सेवी बनाने के लिए मिशन शिक्षण संवाद द्वारा हरदोई में गुरुवार से आठ दिवसीय ऑनलाइन आईसीटी कार्यशाला का शुभारंभ हुआ। कार्यशाला का शुभारंभ जिला शिक्षा प्रशिक्षण संस्थान के प्राचार्य देवेंद्र गुप्ता और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी हेमंत राव की उपस्थिति में हुआ।

 

देवेंद्र गुप्ता ने कहा कि वर्तमान युग तकनीक का युग है। सभी विभागीय कार्य, शिक्षण कार्य से लेकर पुस्तकें तक डिजिटल हो गई हैं। ऐसे में मिशन शिक्षण संवाद द्वारा आयोजित यह कार्यशाला निश्चित ही दूरगामी परिणाम देगी। साथ ही साथ उन्होंने मिशन शिक्षण संवाद को इस विशेष पहल हेतु शुभकामनाएं दी।

 

हेमंत राव ने कहा कि मिशन मिशन शिक्षण संवाद अब कोई नया नाम नहीं है। इसका प्रचार प्रसार पूरे देश में हो चुका है उन्होंने मिशन शिक्षण संवाद द्वारा शिक्षा के उत्थान के लिए किए जा रहे हैं प्रयासों की सराहना की। मिशन शिक्षण संवाद से जुड़े सभी शिक्षक निस्वार्थ भाव से नित नए प्रयोगों द्वारा शिक्षा के उत्थान के लिए कार्य कर रहे हैं। कार्यशाला में शामिल सभी शिक्षकों को शुभकामनाएं देते हुए उन्होंने कहा कि आप आईसीटी के प्रयोग को सीखिए तथा बच्चों के ऑनलाइन शिक्षण को और बेहतर बनाने का प्रयास कीजिए।

 

 

मिशन शिक्षण संवाद के संयोजक अवनीन्द्र सिंह जादौन ने उन्हें मिशन शिक्षण संवाद द्वारा किए जा रहे कार्यों की जानकारी देते हुए ने भरोसा दिलाया की मिशन शिक्षण संवाद से उनकी जो आशाएं हैं हम उन पर खरा उतरने का पूरा प्रयास करेंगे। मिशन शिक्षण संवाद के संस्थापक विमल कुमार ने कहा की मिशन शिक्षण संवाद एक विचारधारा जो शिक्षा के उत्थान शिक्षक के सम्मान तथा मानवता के कल्याण के लिए निरंतर कार्य कर रही है। सब लोग साथ रहें और सबके लिए सब लोग मिलकर साथ मिलकर कार्य करें यही मिशन शिक्षण संवाद की मूल भावना है।

 

खंड शिक्षा अधिकारी, कछौना मनोज कुमार बोस ने शिक्षकों के अंदर नए उत्साह का संचार किया और और विमल के साथ अपनी पुरानी यादों को ताजा करते हुए बताया कि फेसबुक पर उनके छोटे से वार्तालाप ने किस प्रकार मिशन शिक्षण संवाद का बीजारोपण किया जो आज एक विशाल वृक्ष बन चुका है। उन्होंने शिक्षकों से कहा कि समाज हमारा मूल्यांकन करता है हम जहां भी  रहें वहां के इतिहास और भूगोल दोनों को बदलने का प्रयास करना चाहिए।

 

मिशन शिक्षण संवाद की सहयोगी विजया अवस्थी ने कहा यह कार्यशाला निश्चित ही मील का पत्थर साबित होगी। मिशन शिक्षण संवाद के सहयोगी सचिन कुमार मिश्रा ने 'मैं हूं, क्योंकि हम है' सदवाक्य द्वारा टीम भावना से कार्य करने की बात कही। अवनीत कुमार शुक्ला ने मिशन शिक्षण संवाद के साथ अपने अनुभव साझा करते हुए हमें साथ मिलकर काम करने की बात कही। जनपद एडमिन दीपक कुमार दीक्षित और अनुज सिंह ने सभी का आभार व्यक्त किया। कार्यशाला का संचालन नवीन पोरवाल और आशीष शुक्ला ने किया। अपने ज्ञान को अद्यतन करने हेतु प्रथम दिन लगभग 250 शिक्षकों ने कार्यशाला में प्रतिभाग किया।

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT