Home News एटा: डीएम ने प्राथमिक विद्यालय की शिक्षा व्यवस्था पर जताई नाराजगी, प्रधानाध्यापिका को दी चेतावनी

एटा: डीएम ने प्राथमिक विद्यालय की शिक्षा व्यवस्था पर जताई नाराजगी, प्रधानाध्यापिका को दी चेतावनी

एटा
उत्तर प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था आए दिन सवालों के घेरे में रहती है। कभी स्कूलों में शिक्षक मौजूद तो होते हैं लेकिन पढ़ाते नहीं हैं, तो कभी स्कूलों में हाजिरी लगाकर अपनी उपस्थिति जाहिर करके बाहरी दुनिया की सैर करने निकल पड़ते हैं। इसका जीता जागता उदाहरण प्रदेश के एटा जिले में देखने को मिला। जहां जिले के डीएम जब परिषदीय स्कूलों में पढ़ाई जा रही शिक्षा और उसकी स्थिति का हाल जानने पहुंचे तो मौके पर एक शिक्षिका की उपस्थिति दर्ज होने के बाद भी वह स्कूल में उपस्थित नहीं मिली। हालांकि, उस शिक्षिका को निलंबित करने के साथ-साथ स्कूल की प्रधानाध्यापिका को कड़ी फटकार लगाई गई है। 

 

प्रदेश के एटा जिले के अन्तर्गत आने वाले शीतलपुर विकासखंड क्षेत्र के बारथर गांव में दो प्राथमिक और एक पूर्व माध्यमिक विद्यालय संचालित होते हैं। इन विद्यालयों में यदि नामांकित बच्चों की बात की जाए तो प्राथमिक विद्यालय प्रथम में 118 बच्चे नामांकित हैं जिसमें 39 बच्चों की  उपस्थिति पाई गई, एवं प्राथमिक विद्यालय द्वितीय में कुल 115 बच्चे नामांकित हैं जहां 52 बच्चे उपस्थित मिले। इसी तरह अगर पूर्व माध्यमिक विद्यालय में नामांकित बच्चों की बात की जाए तो कुल 93 बच्चे नामांकित हैं, जिनमें से सिर्फ 41 बच्चे ही मौके पर उपस्थित मिले। एटा के जिलाधिकारी ने तीनों विद्यालयों में बच्चों की कम संख्या में उपस्थिति पर नाराजगी व्यक्त की, साथ ही विद्यालय स्टाफ को बच्चों की उपस्थिति पर ध्यान देने के निर्देश दिए। इस दौरान जिलाधिकारी जब प्राथमिक विद्यालय द्वितीय और पूर्व माध्यमिक विद्यालय का जायजा लेने पहुंचे तो पाया कि वहां के मिड-डे मील का रजिस्टर अपडेट नहीं था। इतना ही नहीं जिलाधिकारी ने जब वहां मौजूद बच्चों से चंद सवाल जवाब किए तो शिक्षा की स्थिति भी ठीक नहीं मिली। इस बात पर नाराजगी जता कर विद्यालय की प्रधानाध्यापिका को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि बच्चे देश का भविष्य होते हैं, उन्हें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराई जाए। 


स्कूलों की जांच के बाद डीएम ने गांव के विकास और निर्माण कार्यों का भी निरीक्षण किया, जिसमें लापरवाही पाए जाने पर ग्राम प्रधान सहित पंचायत सचिव को हिदायत दी गई। मौके पर मौजूद ग्रामवासियों की शौचालय और आवास जैसी शिकायत पर भी जांच के निर्देश दिए।

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT