Home Others राजस्थान: डिजिटल कोविड रिलीफ कॉन्सर्ट सीरीज का मुख्यमंत्री गहलोत ने किया शुभारंभ

राजस्थान: डिजिटल कोविड रिलीफ कॉन्सर्ट सीरीज का मुख्यमंत्री गहलोत ने किया शुभारंभ

EduBeats


राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पधारो म्हारे देस डिजिटल कोविड रीलीफ कॉन्सर्ट सीरीज का रविवार को उद्घाटन किया। यह कॉन्सर्ट सीरीज राजस्थान की गायिका मनीषा ए. अग्रवाल की संस्था अर्पण फाउन्डेशन की एक पहल है, जो राजस्थान राज्य के लोक कलाकारों का समर्थन करती है।

 

कॉन्सर्ट सीरीज में भाग लेने वाले कलाकारों में महेशा राम एवं समूह-जैसलमेर के मेघवाल, मूमल के लिए प्रसिद्ध बापू खान मिसारी, जोधपुर के लंगास, बून्दू खान और बैंड, चाला मामा प्रोजेक्ट के थानू खान और तारिफ खान, जोधपुर से कालबेलियों की गायन अनुभूति, सुगनी देवी, मेहबूब खान लांगा एवं अन्य शामिल हैं।

 

इस मौके पर गहलोत ने कहा कि, 'यह पहल कई महीनों तक लगातार आजीविका से वंचित कलाकार समुदाय का समर्थन करेगी। कई लोक कलाकार आजीविका के लिए पूरी तरह से अपनी कला पर निर्भर हैं। कोरोना वायरस संकट के दौरान ऐसे लोक कलाकारों का समर्थन करने के लिए यह एक अनूठी अवधारण है। इस तरह की पहल राज्य में कला शैली के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है और वर्चुअल पर्यटन को बढ़ावा दे सकती है।'

 

मनीषा ए. अग्रवाल, फाउन्डर, अर्पन फाउन्डेशन ने कहा कि, 'इस पहल का समर्थन करने के लिए हम माननीय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के अत्यंत आभारी हैं। उन्होंने हमेशा राज्य की कला एवं संस्कृति को बढ़ावा दिया है तथा उनका समर्थन हमारे एवं लोक कलाकारों के लिए बहुत उत्साहजनक है। इस श्रृंखला में जोधपुर, जैसलमेर एवं बाड़मेर के सुदूर भागों के 70 से अधिक कलाकार प्रदर्शन में शामिल होंगे।'

 

पधारो म्हारे देस का प्रीमियर एपिसोड जैसलमेर के महेशा राम एवं समूह द्वारा गणेश वंदना के साथ हुआ। गेस्ट परफारमेंस के रूप पद्दम भूषण, ग्रैमी अवॉर्ड से सम्मानित पंडित विश्व मोहन भट्ट ने अपनी रचना मोहन वीणा से पधारो म्हारे देस की भूमिका का प्रस्तुतिकरण किया। इसके बाद जोधपुर के लंगास एवं कालबेलियों द्वारा तथा बाड़मेर के मंगणियारों द्वारा लोक संगीत एवं नृत्य प्रस्तुत किया गया।

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

PHOTO GALLERY

सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक