Home Others पोलियो से रखना है दूर तो बच्चों को जरूर पिलाएं दो बूंद जिंदगी की

पोलियो से रखना है दूर तो बच्चों को जरूर पिलाएं दो बूंद जिंदगी की

EduBeats

हर साल 24 अक्‍टूबर के दिन विश्‍व पोलियो दिवस मनाया जाता है इस दिवस को मनाने का उद्देश्‍य पोलियो जैसी बीमारी के विषय में लोगों में जागरूकता फैलाना है। पोलियो एक संक्रामक रोग है जो वायरस के द्वारा फैलता है पोलियो का वायरस मुख के द्वारा मानव शरीर में प्रवेश करता है और ऑतों को प्रभावित करता है इस बीमारी को पोलियोमाइलाइटिस भी कहा जाता है। इस बीमारी का असर अधिकतर बच्‍चों पर होता है अधिकतर देश इस बीमारी से मुक्‍त हो चुके हैं भारत को भी इस बीमारी से 2012 में मुक्‍त घोषित कर दिया गया था लेकिन उसके बाद भी पोलियो के कुछ मामले सामने आये अगर भारत में वर्ष 2014 तक कोई मामला सामने नहीं आया तो भारत विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा आधिकारिक रूप से भारत को पोलियो मुक्त घोषित कर दिया जाएगा। 

 

इस दिन, रोटरी ने पोलियो को समाप्त करने के लिए लड़ाई पर एक लाइव-स्ट्रीम वैश्विक स्थिति अपडेट की व्यवस्था की, जहां स्वास्थ्य विशेषज्ञों और प्रसिद्ध गायकों ने भाग लिया और वैश्विक पोलियो उन्मूलन पहल (जीपीईआई) की प्रगति का स्वागत किया। इसके अलावा, संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) ने दुनिया भर के बच्चो को पोलियो से बचाव के लिए अभियान का आयोजन किया। यूनिसेफ के आंकड़ों के मुताबिक, पोलियो के मामलों की सालाना संख्या वर्ष 1988 में 3,50,000 थी जो गिरकर वर्ष 2013 में 416 और वर्ष 2014 में 243 हो गई। वर्तमान में, पाकिस्तान, अफगानिस्तान और नाइजीरिया दुनिया में ऐसे तीन देश है जहां पोलियो के मामले सर्वाधिक पाए गए हैं।


 
24 अक्‍टूबर के दिन को पोलियो दिवस इसलिये मनाया जाता है क्‍योंकि इस दिन पोलियो की वैक्सीन का आविष्कार करने वाली टीम के प्रमुख जोनास सॉक का जन्म हुआ था इस वैक्‍सीन की कुछ बुँदे ही रोगी के लिए काफी कारगर साबित होती हैं। पोलियो मुक्‍त देश बनाने के लिए भारत में अनेकों स्‍कीम चलाई जा रही है हर बस स्‍टॉप, हर रेलवे स्‍टेशन आदि जगहों पर पोलियो की वैक्‍सीन पिलाने की व्‍यवस्‍था है “हर बच्चा हर बार” और ‘दो बूँद जिन्दगी की’ जैसे स्‍लोगन के द्वारा लोगों में पोलियो के प्रति जागरूकता फैलाई जा रही है। भारतीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की पूरी कोशिश है कि प्रत्‍येक बच्‍चे को हर बार पोलियो की दवा अवश्‍य पिलायी जाए इसलिए घर-घर जाकर भी बच्‍चों को पोलियो की दवा पिलायी जा रही है। 

 


अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व