Home Others ज्योतिषी में विश्वास रखने वाले गृह मंत्री अमित शाह कर चुके हैं स्टॉक ब्रोकर और बैंकर का काम

ज्योतिषी में विश्वास रखने वाले गृह मंत्री अमित शाह कर चुके हैं स्टॉक ब्रोकर और बैंकर का काम

EduBeats

भारतीय राजनीति के चाणक्य के चाणक्य कहीं जाने वाले अमित शाह की जन्म दिवस पर जानने योग्य कई ऐसी बातें हैं जिसका आज तक किसी को पता नहीं चला। हमेशा कहा जाता है कि अमित शाह में राजनीतिक गणित लगानी की क्षमता है वो विश्व भर के किसी नेता में नहीं है। 

तो आइए जानते हैं कि कौन सी है वह 12 बातें जो अमित शाह के जीवन को  बेहद खास बनाती हैं।


1- राजनीति में आने से पहले अमित शाह Plastic और PVC पाइप का बिज़नस करते थे। इसके अलावा अमित शाह एक Stock broker भी रह चुके हैं।


2- अपने गाँव से अहमदाबाद आने पर अमित शाह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्य बने और 4 साल तक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के लिए काम किया।


3- अमित शाह और नरेंद्र मोदी का साथ 1982 से है, जब दोनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुए थे। उस समय अमित शाह की उम्र 17-18 वर्ष और नरेन्द्र मोदी 30 वर्ष के थे।


4- सन 1984-85 में अमित शाह भाजपा पार्टी के सदस्य बने, अमित शाह ने भाजपा के लिए सबसे पहला काम नारणपुरा, अहमदाबाद में पोलिंग एजेंट के रूप में किया। बाद में वो नारणपुरा वार्ड के सेक्रेटरी भी बने।


5- राजनीतिक जीवन में अमित शाह को पहली बड़ी जिम्मेदारी तब मिली, जब उन्हें सन 1989 में लालकृष्ण आडवाणी के लिये गांधीनगर में चुनाव प्रचार का जिम्मा मिला। अमित शाह ने सन 1989 से लेकर आज तक 42 से अधिक छोटे-बड़े चुनाव लड़े, जिनमें एक में भी वो नहीं हारे।


6- सन 2010 में जब अमित शाह को Asia के सबसे बड़े सहकारी बैंक अहमदाबाद District Cooperative Bank का अध्यक्ष बनाया गया तो बैंक के हालात काफी ख़राब थे। 36 करोड़ के घाटे का सामना करते हुए बैंक बंद होने के कगार पर था। अमित शाह ने बैंक की जिम्मेदारी सम्हालते ही उसकी कायापलट शुरू कर दी। इसका सुखद परिणाम ये हुआ कि अगले साल बैंक ने 27 करोड़ का मुनाफा कमाया।


7- बीजेपी के आधुनिक चाणक्य अमित शाह की जटिल रणनीति के पीछे उनका तेजतर्रार बिज़नस माइंड है जोकि लाभ-हानि का गहरा विश्लेषण करता है। बीजेपी पार्टी में 2009 से ही यह माना जाने लगा था कि अमित शाह एक चतुर चुनाव प्रबन्धक (Astute election manager) हैं।


8- अमित शाह भगवान शिव में अगाध आस्था और विश्वास रखते हैं। अमित शाह ज्योतिष में भी बहुत विश्वास करते हैं। उनका मानना है कि सन 2010 में जब वो जेल गये तो उनके बुरे ग्रह चल रहे थे। वो मानते थे कि जून 2016 के बाद उनका समय अच्छा रहेगा। 2017 के उत्तर प्रदेश चुनाव में भारी जीत शायद इसी ओर इशारा करती है। 


9- गाँधीवाद में विश्वास रखने वाली अपनी माँ की प्रेरणा से Amit Shah खादी पहनने लगे। इस नियम पर अमित शाह आज भी कायम हैं।

 
10- अहमदाबाद के कई प्रतिष्ठित मुस्लिम परिवारों से अमित शाह का अच्छा सम्बन्ध है। कई मुस्लिम उनके करीबी मित्र हैं, पर वो सार्वजनिक रूप से इसकी चर्चा नहीं करते।


11- आपको जानकर हैरानी होगी कि अमित शाह शतरंज के अच्छे खिलाड़ी हैं, उन्हें खाली समय में शतरंज खेलना और शास्त्रीय संगीत सुनना पसंद हैं। अपने कॉलेज दिनों में अमित शाह रंगमंच में गहरी रूचि रखते थे और उन्होंने कई प्ले में अभिनय किया था।


12- सन 2006 में अमित शाह गुजरात स्टेट चैस ऐसोसिएशन के चेयरमैन बने और उन्होंने अहमदाबाद के सरकारी स्कूलों में शतरंज को शामिल किया। अमित शाह गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के वाइस-चेयरमैन और Ahmedabad Central board of Cricket के चेयरमैन भी रह चुके हैं।
 


अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व