Home Others भारत में बिजली की कमी देश में प्रतिदिन 4 बिलियन यूनिट बिजली की डिमांड

भारत में बिजली की कमी देश में प्रतिदिन 4 बिलियन यूनिट बिजली की डिमांड

EduBeats

जहां भारत में पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। वहीं दूसरी ओर ब्रिटेन में ईंधन का संकट भी गहराता जा रहा है। ब्रिटेन के 90 फीसदी पेट्रोल पंपों पर स्टॉक ही उपलब्ध नहीं है।


भारत के पावर प्लांट में कोयला स्टॉक का संकट - 

देश में कोयले की मौजूदा स्थिति को देखते हुए यदि जल्द से जल्द सुधार नहीं किया गया तो शायद भारत में लोगों को बिजली के भयानक संकट से जूझना पड़ सकता है। यदि समय रहते इस संक्ट से पार नहीं पाया गया तो आपके घरों की बत्ती भी जल्द ही गुल हो सकती है।


भारत के ऊर्जा मंत्रालय ने देश में बिजली संकट गहराने के पीछे कुछ वजहें बताई हैं। इस दौरान मंत्रालय ने कहा कि कोयले के उत्पादन, कोयले के आयात में आ रही दिक्कतें, कोयले की कीमत बढ़ना, मॉनसून की वजह से प्रभावित होना, ट्रांसपोर्टेशन की दिक्कत समेत कई समस्याएं सामने आ रही हैं और इन सभी वजहों से देश में बिजली संकट गहरा सकता है। इसके साथ ही देश में कोरोना काल के दौरान जरूरत से ज्यादा बिजली का इस्तेमाल हुआ था। इसके साथ ही पहले के मुताबिक अब बिजली की मांग में काफी बढ़ोतरी हुई है

जाहिर है कि दुनियाभर में कोयले की मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए देश में बिजली संकट गहरा सकता है. बिजली उत्पादन को लेकर पावर प्लांट की मॉनिटरिंग की गई तो मालूम चला कि देश के 135 पावर प्लांट में 72 पावर प्लांट में अब सिर्फ 3 दिन से भी कम समय का कोयला बचा है। इसके अलावा 50 प्लांट में अब 4 से 10 दिन का कोयला ही बचा है। जबकि, 13 प्लांट में 10 दिन से ज्यादा का कोयला बचा है। बता दें कि देश में चलने वाले सभी पावर प्लांट्स में से 70 फीसदी पावर प्लांट में कोयले का ही इस्तेमाल होता है। रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले महीने सितंबर में देश में कोयले से चलने वाले 135 पावर प्लांट्स में से 16 प्लांट में कोयले का स्टॉक पूरी तरह से खत्म हो चुका था।


ब्रिटेन के 90 फीसदी पेट्रोल पंप पर खत्म हुआ स्टॉक -

बताते चलें कि एक तरफ बड़े-बड़े उद्योग लगातार कोयले की मांग बढ़ा रहे हैं और दूसरी तरफ कोयले के दाम सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में काफी ऊंचे होते जा रहे हैं। कोयले की इस कीमत को देखते हुए आयात में गिरावट आना भी तय है। आपको जानकर हैरानी होगा कि अभी यूरोप में सर्दियां नहीं आई हैं और उससे पहले ही वहां बिजली के दाम में बढ़ोतरी होने लगी है।


आपको बता दें कि भारत में प्रतिदिन 4 बिलियन यूनिट बिजली की डिमांड है। देश में कुल बिजली उत्पादन का 65 से 70 फीसदी हिस्सा कोयले से होता है। भारत में साल 2019 में 106 बिलियन यूनिट बिजली की डिमांड थी जो कोविड के दौरान बढ़कर 124 बिलियन यूनिट प्रति महीना हो चुकी है। इसके अलावा महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, राजस्थान, मध्यप्रदेश समेत कई राज्यों के पास कोयला कंपनियों का मोटा बकाया है।


अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व