Home Interview 'जिन्दगी' की शुरूआत करके गरीब बच्चों को देते हैं मुफ्त में शिक्षा    

'जिन्दगी' की शुरूआत करके गरीब बच्चों को देते हैं मुफ्त में शिक्षा    

EduBeats

भुवनेश्वर/लखनऊ

कहते हैं कि कोशिशें कभी न कभी कामयाबी की बुलंदियों तक जरूर पहुंचाती हैं। ये बात झारखंड के देवघर में जन्मे अजय बहादुर सिंह पर बिल्कुल सटीक बैठती है। शायद आप इन्हें अभी तक नहीं जानते होंगे लेकिन जब आप इनकी कहानी सुनेंगे तो जीवन में कुछ बेहतर करने की सीख ले सकते हैं। अजय बताते हैं कि 'जिंदगी' की शुरुआत करके गरीब बच्चों को मुफ्त में शिक्षा देने का फैसला लिया, जहां उनका रहना और खाना भी फ्री होता है। अजय की यह संस्था ओडिशा के भुवनेश्वर में है। जब अजय से पूछा गया कि उन्होंने संस्था का नाम जिंदगी ही क्यों रखा? तो अजय ने जवाब दिया कि 'जिंदगी जीतना सभी चाहते हैं, पर किसी और की जिंदगी जीतना सबके बस की बात नहीं है।' वह अपने स्टूडेन्ट्स से गुरु दक्षिणा के रूप में ये शपथ दिलाते हैं कि डॉक्टर बनने के बाद वे कभी गरीब मरीजों को वापस नहीं लौटाएंगे। 

 

एजुकेशन बीट्स से बातचीत में अजय ने कहा कि राष्ट्र के विकास का रास्ता उसकी मातृभाषा से ही होकर जाता है। लेकिन एक स्टूडेंट के अंदर अगर अपने लक्ष्य को प्राप्त करने की जिज्ञासा है तो वह किसी भी भाषा में पढ़ाई कर सकता है। एजुकेशन बीट्स की रेजिडेंट एडिटर दिव्या गौरव त्रिपाठी को दिए गए खास इंटरव्यू में अजय बहादुर सिंह ने और भी कई अपने अनुभव शेयर किए, देखें पूरा इंटरव्यू...

 

 

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT