Home Interview सरकारी स्कूल बने मिशाल, इस प्रधानाध्यापक ने अपनी जेब से खर्च किए 15 लाख रुपए 

सरकारी स्कूल बने मिशाल, इस प्रधानाध्यापक ने अपनी जेब से खर्च किए 15 लाख रुपए 

EduBeats

सम्भल/लखनऊ

सरकारी स्कूल का नाम सुनकर सभी के जहन में एक ही ख्याल आता है, वो है- प्लास्टर टूटी बिल्डिंग, टाट-फट्टी पर बैठे बच्चे, शौचालयों में लगा ताला, टूटी पड़ी बाउंड्री और इन सबको देखकर कोई भी व्यक्ति अपने बच्चे को सरकारी स्कूल में पढ़ने नहीं भेजता। लेकिन उत्तर प्रदेश के ऐसे बहुत से शिक्षक हैं, जो इन बदहाल स्कूलों की हालत को सुधारने में जुटे पड़े हैं। उन्हीं शिक्षकों में से सम्भल जिले के इटायला माफी प्राथमिक विद्यालय में पढ़ाने वाले कपिल मलिक ने एजुकेशन बीट्स से खास बातचीत में बताया कि किस प्रकार उन्होंने गांव वालों का विरोध सहकर भी अपने स्कूल को शानदार बनाया।

 

प्रधानाध्यापक कपिल बताते हैं कि वर्ष 2012-13 में जब मैंने इन्चार्ज अध्यापक के पद पर कार्यभार ग्रहण किया, उस समय उनके स्कूल की स्थिति अत्यधिक खराब थी। स्कूल की कक्षाओं की हालत जर्जर थी। स्कूल में ब्लैक बोर्ड, चाक, पट्टी भी नहीं थे। इसी के साथ स्कूल में 15 से 20 छात्र-छात्राएं ही पढ़ने आते थे। उन्होंने कहा कि एक ऐसा भी समय था जब उनके स्कूल में बाउन्ड्री तक नहीं थी, जिसकी वजह से स्कूल में बहुत ज्यादा गन्दगी और जानवरों का खतरा बना रहता था। कपिल बताते हैं कि जब उन्होंने स्कूल की बाउन्ड्री बनवानी शुरू की तो गांव के सभी लोगों ने इसका खुलकर विरोध किया। लेकिन शानदार स्कूल के सपने को मन में ठान चुके कपिल के ऊपर गांव वालों के विरोध का रत्ती भर असर न हुआ। इसी प्रकार कपिल बताते हैं कि धीरे-धीरे उन्होंने स्कूल को पूरी तरह से परिवर्तित करने के लिए अपने पास से 15 लाख रुपए भी खर्च कर दिए। आज उनके स्कूल में 373 बच्चों का नामाकंन है। 

 

कपिल बताते हैं कि स्कूल के इस परिवर्तन से अब सभी गांव वाले खुश हैं। इसी के साथ वह कहते हैं कि अब तो उस गांव में जब भी किसी के घर कोई मेहमान आता है तो चाय, नाश्ता कराने के बाद सबसे पहले गांव वाले उस मेहमान को अपने गांव का स्कूल दिखाने लाते हैं, जो मेरे लिए गर्व का विषय है। इसी के साथ एजुकेशन बीट्स से खास बातचीत में कपिल ने और भी कई खास बातें कीं... देखिए...


 

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

PHOTO GALLERY

सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक