Home Interview जिंदादिली का नाम है-जिंदगी, कोरोना काल में प्रगति शंकर ने यूं लोगों को समझाया

जिंदादिली का नाम है-जिंदगी, कोरोना काल में प्रगति शंकर ने यूं लोगों को समझाया

EduBeats

बोकारो/लखनऊ

झारखंड के बोकारो की एक ऐसी समाजसेविका जो आधी रात में भी असहाय लाचार गरीबों की सेवा के लिए निकल पड़ती हैं। 'प्रगति सेवा आश्रम' के माध्यम से समाजसेविका प्रगति शंकर पेड़ों से लेकर गरीब बच्चों तक, मजदूरों से लेकर किन्नरों तक, बुजुर्गों से लेकर महिलाओं तक, सभी की मदद के लिए तत्पर रहती हैं। प्रगति एक ओर जहां गरीब बच्चों के लिए अंग्रेजी माध्यम स्कूल चलाती हैं, वहीं दूसरी ओर पर्यावरण को बचाने के लिए भी मुहिम चला रही हैं। बीजेपी से जुड़ीं प्रगति शंकर ने कोरोना काल के दौरान भी लोगों की काफी मदद की।


एजुकेशन बीट्स से बातचीत में प्रगति शंकर ने अपनी पूरी कहानी शेयर की। प्रगति ने बताया कि समाज में उन्हें किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है और किस तरह से उन्हें समाज का सहयोग मिलता है। इस दौरान उन्होंने महिलाओं से जुड़े अपराध, छोटी बच्चियों के साथ यौन शोषण और नशे के बढ़ते प्रभाव पर भी बात की। देखें पूरा इंटरव्यू...

 

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT