Home Interview कविताएं लिखने का है शौक तो कवियत्री श्रुति से जानें कुछ खास टिप्स

कविताएं लिखने का है शौक तो कवियत्री श्रुति से जानें कुछ खास टिप्स

EduBeats

एजुकेशन बीट्स अपनी खास सीरीज "साहित्य पर चर्चा" में ऐसे लोगों के बारे में बताता आ रहा है जो अपनी कविताओं से लोगों के दिलों पर राज कर रहे हैं। साथ ही कविताओं के माध्यम से कवि अपनी कोई भी बात आसानी से दूसरे के सामने रखते हैं। दिलचस्प बात यह है कि यह समाज के हर पहलू पर अपनी राय खुल कर रखते आए हैं। एजुकेशन बीट्स से श्रुति जो कि एक कवियत्री हैं उन्होंने खास बातचीत की है।

 

श्रुति बताती हैं कि उन्हें हमेशा से कविताएं, गजल आदि पढ़ने और सुनने का बहुत शौक था। श्रुति कहती हैं कि मेरे परिवार में कोई भी कविताएं नहीं लिखता है पर जब वह कविताएं पढ़ती थी तो साथ ही उन्होंने लिखना भी शुरू कर दिया। आज के समय में उनके पास कविताओं का एक विशाल संग्रह मौजूद है। उनके अनुसार आपको कोई भी काम एक दिन में नहीं आता है। लेकिन जब कोई काम मन लगाकर किया जाए तो वह आपको एक दिन परफेक्ट जरूर बनाएगा।

 

श्रुति आगे कहती हैं कि जो लिखना शुरू कर रहे हैं उन्हें अधिक से अधिक पढ़ना चाहिए। अपनी कविताओं को यथार्थ से दूर न करें। श्रुति अपनी कविताओं में प्रेम यानी कि श्रृंगार रस घोलती हैं। श्रुति कहती हैं कि प्रेम पूरी दुनिया में है और शाश्वत रूप में है। इसी के साथ एजुकेशन बीट्स से खास बातचीत में श्रुति ने और भी कई मुद्दों पर खास बातें कीं.... देखिए


अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व