Home Interview 'महिला एवं बाल सुरक्षा कवच' से लेकर 'साईं भोग परिवार' के द्वारा नीलू कर रही गरीबों की मदद

'महिला एवं बाल सुरक्षा कवच' से लेकर 'साईं भोग परिवार' के द्वारा नीलू कर रही गरीबों की मदद

EduBeats

लखनऊ

राजधानी लखनऊ में रहने वाली एक ऐसी समाजसेविका, जिन्होंने असहाय गरीब बच्चों के जीवन को रोशन करने के लिए रेस्टोरेंट में मनाई जाने वाली अपनी पार्टियों को बन्द कर दिया। इनका नाम है नीलू त्रिवेदी। नीलू 'स्त्री वेलफेयर फाउंडेशन' की डायरेक्टर हैं। उन्होंने इस संस्था का निर्माण उन महिलाओं के लिए किया है जो महिलाएं अपने जीवन में बहुत सारी चुनौतियों को स्वीकार करते हुए संघर्ष तो करती हैं, लेकिन फिर भी सही दिशा न मिलने के कारण असफल रह जाती है और वह गुमनाम हो जाती है। स्त्री का हृदय बेहद कोमल और भावुक होता है। जिससे वह समाज में असानी से छली जाती हैं और उनका शोषण हो जाता है जिसका उन्हें पता भी नहीं चलता कि कब वह शोषित हो गई,और जब पता चलता है तो बहुत देर हो चुकी होती है। ऐसी स्थिति में इन महिलाओं को एक सही मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है जिसका बीड़ा 'स्त्री फाउंडेशन' ने उठाया है।

 

'स्त्री वेलफेयर फाउंडेशन' ने महिला एवं बाल सुरक्षा कवच की स्थापना भी की है। जिसमें बेटियों एवं महिलाओं को सामाजिक बुराइयों से अवगत कराते हुए उन्हें मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग दी जाती है। जिससे वह खुद का बचाव आवश्यकता पड़ने पर बहादुरी के साथ कर सकें। इसी के साथ 'स्त्री वेलफेयर फाउंडेशन' ने 'साईं पाठशाला' नाम के दो निशुल्क विद्यालय की भी स्थापना की। जिसमें स्लम एरिया के बच्चों को शिक्षा दी जाती है।

 

इसी के साथ बेसहारा लोगों के लिए 'स्त्री वेलफेयर फाउंडेशन' ने 'सांईभोग परिवार' का गठन भी किया, 'सांईभोग परिवार' के माध्यम से हर बृहस्पतिवार को गरीबों को निशुल्क भोजन वितरित किया जाता है। इसी के साथ महिलाओं की प्रतिभा को ध्यान में रखते हुए 'एक खोज प्रतिभा की' इस नाम से एक मंच की स्थापना की। जिसमें उन महिलाओं को चुना जाता हैं जो प्रतिभावान होते हुए भी अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन नहीं कर पाती हैं।

 

एजुकेशन बीट्स से बातचीत में नीलू त्रिवेदी ने अपनी पूरी कहानी शेयर की। नीलू ने बताया कि समाज में उन्हें किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है और किस तरह से उन्हें समाज का सहयोग मिलता है। इस दौरान उन्होंने महिलाओं से जुड़े अपराध, छोटी बच्चियों के साथ यौन शोषण और नशे के बढ़ते प्रभाव पर भी बात की। देखें पूरा इंटरव्यू...
 

 

अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक