Home Interview डॉ. कमल किशोर गोयनका बोले-मनुष्यता सबसे बड़ा धर्म, भारत में जन्म लेने पर गर्व

डॉ. कमल किशोर गोयनका बोले-मनुष्यता सबसे बड़ा धर्म, भारत में जन्म लेने पर गर्व

EduBeats

दिल्ली/लखनऊ

मुंशी प्रेमचंद के जीवन, साहित्य पर लंम्बे समय से काम कर रहे डॉ. कमल किशोर गोयनका कहते हैं कि मुंशी प्रेमचंद को कलम का जादूगर कहा जाता था। वह उर्दू के संस्कार को लेकर हिन्दी में आए थे और हिन्दी के लिए उन्होंने काफी संघर्ष भी किया, उन्होंने उर्दू भाषा को काफी सीखा। एजुकेशन बीट्स से खास बातचीत में उन्होंने यह भी कहा कि आज की सबसे बड़ी समस्या यह है कि आज की पीढ़ी पढ़ती नहीं है, बिना दूसरों के साहित्य के पढ़े हुए आप एक अच्छे साहित्य का निर्माण कभी नहीं कर पाएंगे। 

 

आपको बता दें कि हिंदी के प्रख्यात लेखक एवं बहुमुखी प्रतिभा के धनी डॉ. कमल किशोर गोयनका की अब तक लगभग 50 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। इनमें से आधी पुस्तकें प्रेमचंद साहित्य से ही जुड़ी हुई हैं। 

 

डॉ. कमल किशोर गोयनका कहते हैं कि युवाओं को खूब पढ़ना चाहिए। पढ़ने से बुद्धि का विकास होता है। आप कितने ही प्रतिभासंपन्न क्यों न हों, दुनिया में क्या हो रहा है, इसकी जानकारी आपको अवश्य होनी चाहिए। आपके काम में निरंतरता और निष्ठा, दोनों ही होनी चाहिए। उन्होंने कहा मुझे देखिए मैं 46 साल से लगातार काम कर रहा हूं। उन्होंने यह भी कहा कि यश की आकांक्षा न करें। काम करने पर यश आपके दरवाजे खुद चलकर आएगा। बुनियाद मजबूत होने पर आपको कोई हिला नहीं सकता। साहित्य को खूब पढ़ें। पढ़ने के बाद जब लगे कि लिखे बिना नहीं रह सकते, तो लिखना अवश्य शुरू करें। 
 

अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक