Home Interview MCU के नए कैंपस में पेड़ के नीचे लगेंगी क्लास... गुरुकुल जैसा होगा माहौल

MCU के नए कैंपस में पेड़ के नीचे लगेंगी क्लास... गुरुकुल जैसा होगा माहौल

EduBeats

भोपाल/लखनऊ

भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली (आईआईएमसी) के महानिदेशक रहे केजी सुरेश अब माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय, भोपाल के कुलपति बन गए हैं। केजी सुरेश को लेकर हाल ही में सूबे के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भरोसा जताते हुए कहा था कि वह विश्वविद्यालय को ऊंचाइयों तक ले जाएंगे। केजी सुरेश का विश्वविद्यालय को लेकर क्या प्लान है, और वर्तमान समय में पत्रकारिता का स्तर कितना नीचे जा रहा है, इन सारे विषयों को लेकर एजुकेशन बीट्स ने केजी सुरेश से बात की। केजी सुरेश ने बातचीत में न सिर्फ एमसीयू की बेहतरी को लेकर बनाए जा रहे प्लान शेयर किए बल्कि पत्रकारिता के वर्तमान स्तर को लेकर भी खुलकर बातचीत की।

 

नए कैंपस में यह सब होगा

केजी सुरेश ने बताया कि बिशनखेड़ी में तैयार हो रहे एमसीयू के नए परिसर में विद्यार्थियों को उच्च स्तरीय शैक्षणिक सुविधाएं एवं वातावरण उपलब्ध कराई जाएंगी। नए परिसर में राष्ट्रीय मीडिया संग्रहालय, फैकल्टी एवं मीडिया प्रोफेशनल्स के लिए प्रशिक्षण केंद्र, आधुनिक सुविधाओं से सम्पन्न कक्षाओं के साथ उच्च स्तरीय स्टूडियो भी बनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि मीडिया के इतिहास को प्रदर्शित करने के लिए एन परिसर में देश का अनूठा राष्ट्रीय मीडिया संग्रहालय विकसित किया जाएगा। इसके माध्यम से भारतीय संवाद पद्धति को समझाने का भी प्रयास किया जाएगा। इसके साथ ही विद्यार्थियों के लिए ओपन क्लास रूम की व्यवस्था भी की जाएगी, जहाँ विद्यार्थी चारदीवारी से बाहर निकलकर मीडिया का अध्ययन करेंगे। केंद्रीय पुस्तकालय में विद्यार्थियों के लिए ‘लाइब्रेरी कैफेटेरिया’ भी विकसित की जाएगी, जहाँ विद्यार्थी चाय-कॉपी के साथ किताबें पढ़ने का आनंद ले सकेंगे।

 

पत्रकारिता को लेकर यह सब भी बोले केजी सुरेश

पत्रकारिता को लेकर कानून बनाने की वकालत को लेकर उन्होंने कहा कि पत्रकारिता को स्वतंत्र ही रहने देना चाहिए, बशर्ते पत्रकार स्वप्रेरणा से अपनी जिम्मेदारी समझें। साथ ही उन्होंने चीखों वाली पत्रकारिता को लेकर कहा कि दर्शकों के पास ही रीमोट है, जो चाहें वो देख सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह पूरा खेल डिमांड और सप्लाई का है, जैसी दर्शक डिमांड करेगा यानी जैसा पसंद करेगा, वैसा ही चैनल दिखाएंगे। साथ ही सुरेश ने विश्वविद्यालय के नोएडा परिसर को लेकर भी खलकर बात की। उन्होंने कहा कि मेरा निजी तौर पर नोएडा कैंपस ने काफी लगाव रहा है, लेकिन कानूनी बाध्यताएं हैं, फिर भी अगर कुछ मौका मिला तो जरूर प्रयास करूंगा। इसके अलावा भी केजी सुरेश ने कई बातें कीं... पूरा इंटरव्यू यहां देखें।

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT