Home Experts-column जब जिंदगी में न कर पा रहे हों सही-गलत का फैसला तो अपनाएं ये टिप्स

जब जिंदगी में न कर पा रहे हों सही-गलत का फैसला तो अपनाएं ये टिप्स

EduBeats

हम सब को अपनी जिंदगी नें कई ऐसी परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है, जहां हम अपने भविष्य के लिए सही फैसला नहीं ले पाते हैं और बहुत ही असमंजस की स्थिति में पहुंच जाते है। ऐसी स्थिति में अगर गलत फैसला ले लिया जाए तो या ते हमारा नुकसान होगा या हमें भविष्य में शर्मिंदगी की सामना करना पड़ेगा। जब जिदंगी के फैसले लेने में हो रही हो कठिनाई तो सहायता करेंगे ये असान सुझाव...

 

1- अपने आप से पूछें सवाल
जब हम किसी निर्णय को लेने में असमर्थ होते हैं तो अक्सर खुद से पहले दूसरों से पूछने लगते हैं जो हमेशा सही नहीं होता। हमें सबसे पहले अपनी अंतरात्मा से सवाल करने चाहिए। जो लोग अपनी अंतरात्मा की आवाज सुनकर कोई फैसला लेते हैं उन्हें भविष्य में कभी अपने फैसले पर पछतावा नहीं होता है।

 

2- अपने विवेक का करें इस्तेमाल
जन्म से ही हम सभी में अच्छा और बुरा समझने की विवेक मौजूद होता है। व्यक्ति के मन में जैसे ही कोई बुरा या अच्छा विचार आता है उसका विवेक उसे तुरंत बता देता है कि उसके लिए क्या ठीक है। जो लोग लालच में पड़कर अपने विवेक की नहीं सुनते और तर्क-वितर्क में पड़कर कोई अनुचित कार्य कर बैठते हैं उनके लिए सही-गलत का फर्क कर पाना मुश्किल हो जाता है।

 

3- पहले ही तय करें सफलता का पैमाना
जब हम जीवन में सफल होना चाहते हैं तो हम अक्सर किसी भी सफल व्यक्ति से प्ररेणा लेने के लिए उसके किसी खास पहलू पर नजर डालते हैं जो कि सही नहीं है। अगर हम किसी से प्रेरणा ले रहे हैं तो हमें उस व्यक्ति के संपूर्ण जीवन कि जानकारी होनी चाहिए। हर व्यक्ति कि परिस्थितियां अलग होती है सफल होने वाला व्यक्ति भी कई कठिनाईयों का सामना करने के बाद सफल हुआ है। अगर आप किसी से प्रेरित हैं और उनकी तरह बनना चाहते हैं तो आपको उस व्यक्ति के बारे में पूरी जानकारी होना आवश्यक है। अगर आप ऐसा करेंगे तो आपको  सारे सवालों के जवाब तुरंत मिल जाएंगे।

 

4-अपने ज्ञान को परिपक्व करें
अगर हम जीवन में सफल होना चाहते हैं तो हमको अपने ज्ञान को बढ़ाना होगा क्योकि अधूरी जानकारी हमेशा नुकसानदेह होती है चाहें वह हमारे व्यक्तिगत जीवन से संबन्धित हो या हमारे करियर से। अक्सर जानकारी का अभाव हमें सफलता की जगह असफलता की ओर बढ़ा देता है।

 

5-अपनेआप पर करें काम
कभी-कभी हम जिस क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं उससे संबन्धित सारी जानकारी तो हमारे पास होती है लेकिन आत्मविश्वास की कमी या अपनी बात को सही ढंग से दूसरों के सामने न रख पाना असफलता का एक बहुत बड़ा कारण होता है। अपनी पर्सनैलिटी पर अगर हम काम करते हैं तो हमें सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

PHOTO GALLERY

सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक