Home College एमपी के सीएम ने कहा- कॉलेज में एडमिशन लेने पर बेटियों को मिलेंगे 25 हजार रूपये

एमपी के सीएम ने कहा- कॉलेज में एडमिशन लेने पर बेटियों को मिलेंगे 25 हजार रूपये

EduBeats

भोपाल
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कॉलेज में दाखिला लेने वाली बेटियों को लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत अब 25,000 रूपये की राशि भी दी जाएगी। बालिका के जन्म के प्रति जनता में सकारात्मक सोच, लिंग अनुपात में सुधार, बालिकाओं की शैक्षणिक स्तर एवं स्वास्थ्य की स्थिति में सुधार तथा उनके अच्छे भविष्य की आधारशिला रखने के उद्देश्य से प्रदेश में एक अप्रैल 2007 में लाड़ली लक्ष्मी योजना शुरू की गई थी।

 

चौहान ने यहां लाड़ली लक्ष्मी उत्सव को संबोधित करते हुए कहा, ‘कॉलेज में दाखिला लेने वाली लाड़ली लक्ष्मी बेटियों को 25,000 रूपये की राशि दी जाएगी।’ उन्होंने कहा कि प्रदेश में बेटियों की शिक्षा, सुरक्षा, स्वास्थ्य-सुविधा, स्वावलंबन, समृद्धि और उनका सम्मान ही हमारी प्राथमिकता है। यह पूरे समाज की जिम्मेदारी है। नारी तुम केवल श्रद्धा हो, यह भाव अगर मजबूत होगा तो निश्चित तौर पर देश आगे बढ़ेगा।

 

चौहान ने कहा कि प्रदेश में बालिकाओं के आर्थिक सशक्तिकरण, उन्हें व्यावसायिक प्रशिक्षण देने और बैंक ऋण पर सरकार की तरफ से गारंटी देने का कार्य किया जाएगा। उच्च शिक्षा के लिए शिक्षण शुल्क की व्यवस्था भी की जाएगी। संगीत और चित्रकला जैसे क्षेत्रों में विकास के लिए हर संभव सहयोग प्रदान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में माता-पिता के बिना, अनाश्रित स्थिति में मिली बेटियों को भी लाड़ली लक्ष्मी मानकर योजना के लाभ दिए जाएंगे। लाड़ली लक्ष्मी दिवस उत्सव के रूप में न सिर्फ राज्य स्तर पर बल्कि जिला, ब्लाक और ग्राम पंचायत स्तर पर मनाया जाएगा। कोशिश यह है कि मध्य प्रदेश की लाड़ली लक्ष्मी योजना पूरी दुनिया में आदर्श उदाहरण बन जाए। उन्होंने सिंगल क्लिक के माध्यम से 'लाड़ली लक्ष्मी उत्सव' में प्रदेश की 21,550 लाड़लियों के खातों में 5.99 करोड़ रुपए की छात्रवृत्ति का अंतरण किया।

 

चौहान ने बताया कि उन्होंने मजबूत संकल्प के साथ वर्ष 2007 से लाड़ली लक्ष्मी योजना का क्रियान्वयन प्रारंभ किया। इस योजना के अंतर्गत कन्या की आयु 21 वर्ष होने पर उन्हें अंतिम भुगतान एक लाख रूपये की राशि मिलने का प्रावधान है। इसके अलावा, उन्हें छात्रवृति भी दी जाती है। उन्होंने कहा कि आज से 14 वर्ष पहले की छोटी-छोटी लाड़ली लक्ष्मियों का कक्षा 10 वीं से 12 वीं और महाविद्यालय में प्रवेश होते देखना प्रसन्नता का ही नहीं बल्कि जीवन को सफल और सार्थक होने की अनुभूति भी प्रदान करता है।

 

चौहान ने कहा कि प्रदेश में वर्ष 2021-22 की छमाही में 1.31 लाख नई बालिकाओं का पंजीयन लाड़ली लक्ष्मी योजना में हुआ है। योजना शुरू होने से अब तक कक्षा 6, कक्षा 9, कक्षा 11 और कक्षा 12 में प्रवेश लेने वाली 6.62 लाख बालिकाओं को 185 करोड़ रूपये की छात्रवृत्ति प्रदान की जा चुकी है। योजना देश भर में प्रशंसित है और अनेक राज्यों ने इसे अपनाया है। उन्होंने कहा, ‘राज्य सरकार ने लाड़लियों के कल्याण के लिए 47,200 करोड़ रूपये सुरक्षित रख दिए हैं, जो समय-समय पर इन्हें मिलना है। भाव यही है कि बेटियाँ बोझ न बनें, वरदान बन जाएँ। यह केवल योजना नहीं है, समाज की दृष्टि बदलने का प्रयास है।’
भाषा


अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व