Home College आईआईएम लखनऊ ने छात्रों को दिया बड़ा झटका

आईआईएम लखनऊ ने छात्रों को दिया बड़ा झटका

EduBeats

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम) लखनऊ ने अपने दो साल के पोस्ट ग्रैजुएट प्रोग्राम इन मैनेजमेंट की फीस में संशोधन किया है। इंस्टिट्यूट ने इस कोर्स की फीस में 36 फीसदी की बढ़ोतरी की है। 2019-20 ऐकडेमिक सेशन में यह फीस 14 लाख रुपये थी जो अब बढ़कर 19 लाख रुपये हो गई है। यह फीस बढ़ोतरी सिर्फ नए बैचों पर लागू होगी। जो छात्र प्रोग्राम के दूसरे साल में हैं, उन पर यह फीस नहीं लागू होगी। उनको पुराने स्ट्रक्चर के मुताबिक ही फीस देनी होगी।

 

कुछ अभ्यर्थियों ने अचानक फीस बढ़ोतरी पर नाखुशी का इजहार किया है क्योंकि कोरोनावायरस संक्रमण के दौरान लोगों पर आर्थिक बोझ बढ़ गया है। अभ्यर्थियों ने अपनी शिकायत के समाधान के लिए अथॉरिटीज को पत्र लिखा है। एक अभ्यर्थी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया, 'कोविड-19 संक्रमण के दौर में आईआईएम लखनऊ में फीस में सीधे 36 फीसदी बढ़ोतरी अथॉरिटीज की गैर जिम्मेदाराना हरकत को दिखाती है। इस साल फीस में सरकार की ओर से किसी तरह की बढ़ोतरी नहीं करने को लेकर कई निर्देश जारी किए गए हैं और अन्य कई आईआएम ने इस ऐकडेमिक इयर में फीस नहीं बढ़ाने का फैसला किया है। इसके बावजूद आईआईएम लखनऊ में इतनी जबर्दस्त बढ़ोतरी की गई है।'

 

संस्थान के अनुसार, 2020 से शुरू होने वाले बैच के लिए फीस बढ़ाने का फैसला अचानक नहीं लिया गया है। यह फैसला जून 2019 में हुई एक बोर्ड मीटिंग में लिया गया था क्योंकि इस तरह का फैसला अगले साल की दाखिला प्रक्रिया शुरू होने से काफी पहले लिया जाता है। एजुकेशन टाइम्स को दिए गए एक ऑफिशल स्टेटमेंट में संस्थान की ओर से कहा गया है, 'इस फीस बढ़ोतरी के बाद भी आईआईएम लखनऊ की फीस एनआईआरएफ रैंकिंग में जगह बनाने वाले चार आईआईएम के फी स्ट्रक्चर के मुकाबले काफी कम है। आईआईएम लखनऊ ने 2013 में अपनी फीस में 10 फीसदी की बढ़ोतरी की थी तब 10.8 लाख से बढ़कर फीस 12 लाख हो गई थी। फिर 2016 में फीस बढ़ाकर 14 लाख की गई। अब चार साल के बाद फीस में बढ़ोतरी की जा रही है।' एनआईआरएफ की रैंकिंग में मैनेजमेंट में टॉप 2 आईआईएम, बेंगलुरु और अहमदाबाद की दो साल के पीजीपी प्रोग्राम की फीस करीब 23 लाख रुपये है।
 

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT