Home Blogs लिखते लिखते नहीं हाथ थकते मेरे, दिल के अरमान यूं ही ना बचते मेरे

लिखते लिखते नहीं हाथ थकते मेरे, दिल के अरमान यूं ही ना बचते मेरे

EduBeats

हम तो आजाद हैं हम तो आजाद हैं
हम तो आजाद हैं हम तो आजाद हैं

 

बंदिशों से सदा उनकी लाचार हैं,
उनको लगता सदा हम तो बेकार हैं।
नफरतें फिर पनपने लगी हैं गुरु,
छोड़ दी हमने जबसे वो तलवार है।
कह दो पहले से हम यारों बर्बाद हैं,
हम तो आजाद हैं हम तो आजाद हैं।

 

लिखते लिखते नहीं हाथ थकते मेरे,
दिल के अरमान यूं ही ना बचते मेरे।
देश की मेरे हालत भी बर्बाद है,
हम तो आजाद हैं हम तो आजाद हैं।

 

देखकर लोग कहते हमारा हमें,
कई लोगों की नफरत ने मारा हमें।
वो जो नफरत थी हम उनके संवाद हैं,
हम तो आजाद हैं हम तो आजाद हैं।

 

उनको लगता अभी भी आवारे हैं हम,
उनकी यादों के लम्हे गुजारे हैं हम।
धड़कने उनके दिल की तो बढ़ने लगीं,
फिर वो कहते हैं किस्मत के मारे हैं हम।
बोल दो हम सही वो तो अपवाद हैं,
हम तो आजाद हैं हम तो आजाद हैं।

 

हम तो आजाद हैं हम तो आजाद हैं,
हम तो आजाद हैं हम तो आजाद।

 

शिवम अन्तापुरिया

उत्तर प्रदेश

डिस्क्लेमर:
हम अपने रचनाकारों से अपेक्षा करते हैं कि इस सेक्शन में प्रकाशित करने के लिए वे जो भी रचनाएं हमें भेजते हैं, वे उनकी मौलिक रचनाएं होती हैं। हालांकि हम उसे क्रॉस वेरीफाई करते हैं फिर भी यदि कोई विवाद होता है तो आप हमें हमारे हेल्पलाइन नम्बर 08874444035 पर बता सकते हैं। सभी विवादों का न्याय क्षेत्र लखनऊ होगा।

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT