Home Blogs दूजों का मैं पेज चुराकर, अपनी प्लेन बनाता था

दूजों का मैं पेज चुराकर, अपनी प्लेन बनाता था

EduBeats

मिट्टी का मैं बना मोबाइल, खुद से ही बतियाता था,
सपने में ही सैनिक बनकर, मैं सरहद पर जाता था।
अपनी कर झूठी तारीफें, इज्जत खूब कमाता था,
बहन-भाइयों की चुगली कर, माँ से मैं डंटवाता था।।


खुद भी गलती करके, मैं उनपर आरोप लगाता था,
बहुत मज़ा तब आता था, बहुत मज़ा तब आता था।।
हमउम्र साथियों को अपने, उल्लू बहुत बनाता था,
दूजों का मैं पेज चुराकर, अपनी प्लेन बनाता था।।

 

जन्मदिवस पर जबरन, सबसे केक मैं खाता था,
लंचबॉक्स भी यारों का, चुरा के मैं खा जाता था।
घर से मिली मिठाई लेकिन, सबको साथ खिलाता था,
बहुत मज़ा तब आता था, बहुत मज़ा तब आता था।।

 

बचपन के मैं अल्हड़पन में, जी भरके मुस्काता था,
भूत-प्रेत की कथा सुना, बच्चों को खूब डराता था।
पापा से पा एक चवन्नी, जमींदार बन जाता था,
तालाब के गंदे पानी में, बारिश में खूब नहाता था।।

 

कच्ची मिट्टी, गोबर से, मैं अपने महल बनाता था,
बहुत मज़ा तब आता था, बहुत मज़ा तब आता था।
चरखी लेकर आसमान में, दिनभर पतंग उड़ाता था,
बारिश के पानी में अपनी, कागज की नाव चलाता था।।

 

इमली, आंवला, आम, करौंदे, बागों से खूब चुराता था,
पूरे गांव में लेकर डंडा, मैं दिनभर टायर दौड़ाता था।
एक रूपया दो करने को, पटरी पर रख आता था,
बहुत मज़ा तब आता था, बहुत मज़ा तब आता था।।

 

बांध गले में उसके घंटी, बछड़े को दौड़ाता था,
गेट पे अपने झूल-झूलकर, आसमान में जाता था।
एक रूपए में मैं पूरी, पूरी बत्तीस टाफी लाता था,
घर में हर एक नई चीज पर, मैं अधिकार जमाता था।।

 

लोट-पोट मैं पापा से, हर जिद पूरी करवाता था।
बहुत मज़ा तब आता था, बहुत मज़ा तब आता था।।

अभिजित त्रिपाठी
 अमेठी

डिस्क्लेमर:
हम अपने रचनाकारों से अपेक्षा करते हैं कि इस सेक्शन में प्रकाशित करने के लिए वे जो भी रचनाएं हमें भेजते हैं, वे उनकी मौलिक रचनाएं होती हैं। हालांकि हम उसे क्रॉस वेरीफाई करते हैं फिर भी यदि कोई विवाद होता है तो आप हमें हमारे हेल्पलाइन नम्बर 08874444035 पर बता सकते हैं। सभी विवादों का न्याय क्षेत्र लखनऊ होगा।

अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
पठानकोट: NSUIके जिलाध्यक्ष बनाए गए अभयम शर्मा, काफिले की भीड़ देख उड़ जाएंगे होश
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
वाह दुर्गेश! लविवि का शताब्दी वर्ष, 100 परिवारों के बच्चों को बांटी कॉपी किताबें और खुशियां
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक
दिवाली पर रोशन हुए सरकारी स्कूल, शिक्षकों संग बच्चों ने बनाई रंगोली और जलाए दीपक