Home Blogs जब से हो प्रिय तुम आई, सब लतिकायें लहक उठीं

जब से हो प्रिय तुम आई, सब लतिकायें लहक उठीं

EduBeats

                

जब से हो प्रिय तुम आई
सब लतिकायें लहक उठीं,
सब लतिकायें लहक उठीं,
सुरभित  हुई   ये  तरुणाई ।            
जीवन के सूने  उपवन   में, 
जबसे हो  प्रिय  तुम आईं।। 

 

चटकी कालिया डाली पर,
 मधुवन  की सूनी  राहों  में। 
ज्यों चांद छिपा हो बादल में, 
ऎसे  तुम सिमटी  बाहों  में।।


 
साँसों में बसी तुम ऎसे कुछ,
जैसे  पावन एक  अंगड़ाई। 
जीवन के सूने   उपवन   में, 
जबसे हो  प्रिय  तुम आईं।।


 
अनुराग लुटाती सी अवनी, 
सौरभ बिखराती  मंद पवन। 
हो रेशम सी झिलमिल झाँकी,
मंदिर की आरती दिव्य हवन।। 

 

कजरारी अंखियों का जादू,
ऊपर से  यूँ भोली चितवन। 
थी लाज भरी घूंघट पट में, 
झलके झलके पावन गुंजन।। 

 

झंकृत होते थे हृदय तार,
बजती मन मधुरिम शहनाई। 
जीवन के सूने   उपवन   में, 
जब से हो  प्रिय  तुम आईं।। 

 

अधरों  पर  मुस्कान रहे ,
ये  दिन सदा ही याद रहे। 
कुसुमित हो नव पल्लव, 
साथ  हमारा आबाद  रहे।।
 
यौवन का राग विहाग करे, 
 तन भरे  हिलोरे   अंगड़ाई। 
जीवन के सूने  उपवन   में, 
 जबसे हो  प्रिय  तुम आईं।। 

 

  
  करन त्रिपाठी


डिस्क्लेमर:
हम अपने रचनाकारों से अपेक्षा करते हैं कि इस सेक्शन में प्रकाशित करने के लिए वे जो भी रचनाएं हमें भेजते हैं, वे उनकी मौलिक रचनाएं होती हैं। हालांकि हम उसे क्रॉस वेरीफाई करते हैं फिर भी यदि कोई विवाद होता है तो आप हमें हमारे हेल्पलाइन नम्बर 08874444035 पर बता सकते हैं। सभी विवादों का न्याय क्षेत्र लखनऊ होगा।

अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व