Home Blogs Covid-19: अंधकार में पहुंच रहा है बच्चों का भविष्य

Covid-19: अंधकार में पहुंच रहा है बच्चों का भविष्य

EduBeats

कोरोना महामारी से आज पूरी दुनिया जूझ रही है इस साल ना जानें कितने लोगों के घर का दीपक बुझ गया है और जानें कितनों ने अपनों को खोया है। इस महामारी का प्रकोप दुनिया के कई देशों में देखने को मिला है।

 

जैसा कि आप लोगों ने देखा होगा की स्वास्थ्य, भूख, रोज़गार, ऐसे अनेक मुद्दे हैं जो लगातार मीडिया में आ रहे हैं। इस पूरे जिक्र में एक बड़ा सवाल गायब है, और वो है शिक्षा के अधिकार का सवाल। इस corona में कैसे पढ़ाई होगी ये सोचने का विषय है ।

 

जैसा कि हम जानते हैं कि कुछ बड़े संस्थान हैं जो ऑनलाइन क्लासेज चलाकर अपने छात्रों को सहयोग करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं लेकिन ऐसे कुछ ही संस्थान हैं जो ऑनलाइन क्लासेज में पढ़ा रहे हैं। ऑनलाइन ऐप के माध्यम से टीचर्स अपने सभी छात्रों से बात करते हैं और उनका मार्गदर्शन करते हैं। 

 

कहीं-कहीं पर तो ऑनलाइन क्लासेज के नाम पर क्लासेज बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे हैं, ना तो टीचर्स रेगुलर ऑनलाइन क्लासेज लेते हैं और अगर लेते भी हैं तो नटवर्क बहुत खराब होता है जिसकी वजह से पढ़ाई में बाधा उत्पन्न होती है। 

 

ऑनलाइन पढ़ाई को न ही बच्चे सीरीयस लेते हैं और न ही टीचर्स बहुत से ऐसे बच्चे भी हैं जो ऑनलाइन क्लासेज करते ही नहीं हैं। अगर देखा जाए तो ऑनलाइन क्लासेज से ज्यादा बच्चे ऑफलाइन  में खुश हैं। ऑफलाइन  मे टीचर्स बच्चों पर ज्यादा ध्यान देते हैं और बच्चे भी टीचर्स के डर से मन लगाकर पढ़ते हैं।

 

सरकार के निर्देशों अनुसार 15 अगस्त से कक्षा 9वीं और 12वीं के विद्यालयों को खोलने का आदेश दिया है। अब देखना ये है कि कोरोना की तीसरी लहर में बच्चे पढ़ पाएंगे या नहीं। ना जाने कब ये कोविड-19 महामारी खत्म होगी और बच्चे अपने भविष्य को सुरक्षित देखेंगे।


डिस्क्लेमर:
हम अपने रचनाकारों से अपेक्षा करते हैं कि इस सेक्शन में प्रकाशित करने के लिए वे जो भी रचनाएं हमें भेजते हैं, वे उनकी मौलिक रचनाएं होती हैं। हालांकि हम उसे क्रॉस वेरीफाई करते हैं फिर भी यदि कोई विवाद होता है तो आप हमें हमारे हेल्पलाइन नम्बर 08874444035 पर बता सकते हैं। सभी विवादों का न्याय क्षेत्र लखनऊ होगा।

अड्डेबाजी

छपास प्रेमी

छपास प्रेमी

तस्वीरों में देखिए

UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
UP में एक साल बाद खुले प्राथमिक विद्यालय, फूल और गुब्बारों से सजे स्कूलों में हुआ बच्चों का स्वागत
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
उत्तराखंड संस्कृत विवि में तीन दिवसीय पुस्तक प्रर्दशनी का उद्घाटन
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
पौधारोपरण कर मनाया गया गणतंत्र दिवस, देखें फैजुल्लागंज सरकारी स्कूल की खास तस्वीरें
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाई श्रीनिवास रामानुजन की जंयती
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
यूपी के पहले डीआईजी सिराजुद्दीन अहमद के बेटे ने लविवि को सौंपी उनकी 100 साल पुरानी डिग्रियां
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
संस्कृत विश्वविद्यालय में यूं मनाया गया गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व