Home Blogs पीढ़ियों के इंतजार को एक मुकाम मिला है

पीढ़ियों के इंतजार को एक मुकाम मिला है

EduBeats

 

पीढ़ियों के इंतजार को एक मुकाम मिला है,
बेघर सी आस्था को एक मकान मिला है।
पीढ़ियों के इंतजार को एक मुकाम मिला है,
सदियों से दर्शन की प्यासी आंखों को।।

 

एक नया ईनाम मिला है,
पीढ़ियों के इंतजार को एक मुकाम मिला है।
सालों से उदास बैठे शिल्पियों को अब जाकर,
अपने मन का काम मिला है।।

 

पीढ़ियों के इंतजार को एक मुकाम मिला है,
वर्षों से जो आंखे झुकी हुई थी।
उनको आज स्वाभिमान मिला है,
पीढ़ियों के इंतजार को एक मुकाम मिला है।।

 

मनीष अवस्थी
गोमती नगर 
9889024709

RELATED NEWS

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT